Goat story in hindi | Samajdar Bakri story in Hindi-Hindi Stories

Goat story in hindi:-

नमस्कार दोस्तों कैसे हो स्वागत है आप सभी मित्रों का हमारे Hindi Stories के वेबसाइट में|

दोस्तों आज में आपलोगो को Goat story के 3 कहानी बताऊंगा जो बहुत ही मजेदार है।
अगर आप ये Goat story in hindi को अपने छोटे बच्छो को सुना दिए न,बच्चे आपके फैन हो जाएंगे।

Goat story in hindi

 

Samajdar Bakri story in Hindi:-

एक बार एक छोटे से गाँव में एक नदी थी। गांव के लोगों ने इसे पार करने के लिए नदी पर

एक संकीर्ण पुल का निर्माण किया। पुल इतना संकरा था कि एक बार में केवल एक ही

व्यक्ति इसे पार कर सकता था।

एक दिन एक बकरी पुल पार कर रही थी। उसने एक अन्य बकरी को पुल पार करते हुए देखा,

जो विपरीत दिशा से उस पर चल रही थी। बेशक, पुल इतना संकरा था कि दोनों के गुजरने

के लिए कोई जगह नहीं थी।

दोनों बकरियों ने वापस जाने के लिए कुछ देर इंतजार किया। लेकिन दोनों में से कोई भी

वापस नहीं जाना चाहता था।

एक बकरी ने दूसरे बकरे से कहा, ” मैं तुमसे बड़ी हूँ, तुम्हें वापस जाना चाहिए।” दूसरे बकरे

ने इनकार करते हुए कहा, “मैं मजबूत हूं और तेजी से पुल पार कर सकता हूं।

इसलिए तुम्हे वापस जाना चाहिए। ”

पहले बकरी ने कहा, “मैं बड़ी भी हूँ,और तुमसे ज्यादा मजबूत भी।”

दूसरे बकरे ने इनकार कर दिया कि तुम अधिक मजबूत हो। इस तरह, दोनों ने कुछ समय के

लिए तर्क दिया कि कौन मजबूत था। जल्द ही यह तर्क मारपीट में बदल गया और एक बकरी

ने दूसरे पर सींग से प्रहार किया।

वे उग्र रूप से लड़े और जल्द ही, दोनों अपना संतुलन खो बैठे और नीचे नदी में गिर गए।

नदी के तेज प्रवाह ने उन्हें गहरे पानी में बहा दिया और दोनों डूबकर मर गए।

 

कुछ समय बाद, दो और बकरियां विपरीत दिशाओं से उसी पुल पर आ गईं। दोनों इस बात

पर बहस करने लगे कि पुल से किसे वापस जाना चाहिए और दूसरे को जाने देना चाहिए।

इस बार, बकरियों में से एक ने कुछ देर सोचा और दूसरे बकरे से कहा, “रुक जाओ!

पुल बहुत संकरा है। अगर हम दोनों लड़ते हैं, तो हम नदी में गिर जाएंगे और डूब जाएंगे।

इसके बजाय मेरे पास एक योजना है। मैं लेट जाऊंगा, और तुम मेरे ऊपर चलो। “

दूसरे बकरे ने समझा कि यह समझदारी की बात है। उन्होंने उस बकरी के ज्ञान की सराहना की।

बुद्धिमान बकरी पुल पर लेट गया, और दूसरा बकरा उसके ऊपर चला गया।और दोनों बकरी बच गया।

 

कहानी का नैतिक:-

दोस्तों हम सब को जोस में आकर होस नही खोना चाहिए।इसका परिणाम हमेशा बुरा होता है,

इसलिए हम सब को कोई भी कार्य समझदारी के साथ करना चाहिए।

 

2.लोमड़ी और बकरी की कहानी :-

Goat story in hindi

एक बार एक लोमड़ी अंधेरे में घूम रही थी। दुर्भाग्य से, वह एक कुएं में गिर गया। उन्होंने

अपने से बाहर आने की पूरी कोशिश की लेकिन वह बाहर नहीं निकल सका। इसलिए,

उनके पास अगली सुबह तक वहां रहने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था। अगले दिन,

एक बकरी उसी रास्ते से आई। उसने कुएँ में झाँका और वहाँ लोमड़ी को देखा। बकरी ने पूछा,

“आप वहाँ क्या कर रहे हैं, मिस्टर फॉक्स?”

लोमड़ी ने उत्तर दिया, “मैं यहाँ पानी पीने आई थी। यहाँ सबसे अच्छा पानी है मैं कभी भी

ऐसी पानी नहीं चखा हूँ।आप भी आओ और इस पानी को चखो।” कुछ देर के बाद बिना

सोचे-समझे बकरी भी कुएं में छलांग लगा दी, बकरी अपनी प्यास बुझाई और बाहर

निकलने का रास्ता खोजा। लेकिन लोमड़ी की तरह उसने भी खुद को बाहर

आने के लिए असहाय पाया।

फिर लोमड़ी ने कहा, “मेरे पास एक विचार है। आप अपने दों पैरों पर खड़े हों। मैं आपके

सिर पर चढ़ जाऊंगा और बाहर निकल जाऊंगा फिर मैं आपकी मदद भी करूंगा। बकरी

इतनी मासूम थी कि लोमड़ी की चालाकी को समझ नहीं सकती थी। और जैसा कि लोमड़ी

ने कहा उसी प्रकार से बकरी ने उसे कुएं से बाहर निकलने में मदद की।

लोमड़ी कुँए से बाहर निकलने के बाद बकरी की मदद करे बिना वहाँ से भाग गया।

 

कहानी का नैतिक:-

दोस्तों बिना सोचे-समझे किसी की बातों में आकर कोई भी कम नही करे।नहीं तो आपको

बाद में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ेगा।

Top 10 in hindi

3. तीन बकरी ओर मगरमच्छ की कहानी:-

Goat story in hindi

 

Bakri ki chaturai story in Hindi:-

तीन बकरी का समूह था; ( पतला बकरी,मोटा बकरी,मोटा और लम्बा बकरी)

जो एक हरी घाटी में एक खेत में रहते थे।

उन्हें मीठी घास खाना बहुत पसंद था, लेकिन दुख की बात है कि उनका खेत

अब भूरा और बंजर हो गया था क्योंकि वे लालची बकरियां थीं और उन्होंने घास

को खेतों में हर तरफ से खाया था।लेकिन वे अभी भी भूखे थे।

कही दूर में, वे एक खेत को देखा जो रसीला मीठी खुश्बूदार घास से भरा था,

लेकिन अफसोस कि इसके पास जाने के लिए केवल एक ही रास्ता था –

एक नदी के उपर एक पुल से।

लेकिन पुल के नीचे एक भयानक मगरमच्छ रहता था – वह हमेशा भूखा ही रहता था।

और वहाँ कुछ भी नहीं था। वह एक अच्छा मोटा बकरी खाने में पसंद करता था।

 

Goat story in hindi:-

Goat story in hindi

 

पतला बकरी पुल पर पहुंचने वाले पहले बकरी थे। पतला बकरी पुल को पार करने

में बहुत डर रही थी।फिर भी उसने पुल को पार करने की कोशिश की,जैसे ही वो

पुल को पार कर रही थी तभी अचानक एक बड़ी गर्जना हुई।

 

मेरे पुल से यात्रा करने वाला कौन है? ‘ मगरमच्छ बोला
पतला बकरी बोला ” भैया में हु, मैं केवल खाने के लिए कुछ घास देखने जा रहा हूं। ‘

अरे तुम जो भी हो; मैं तुम्हें अपने नाश्ते, दोपहर के भोजन और चाय के लिए खाने जा रहा हूँ! ‘

पतला बकरी घबरा गया है। फिर बोला मैं सिर्फ छोटा बकरी हूँ। आप मेरे भाई का इंतजार

क्यों नहीं करते? वह मुझसे बहुत बड़ा और बहुत स्वादिष्ट है। ‘

लालची मगरमच्छ उस बकरी के बातों में आकर दूसरी बकरी का इंतजार करने का फैसला किया।

और पतला बकरी पुल पार करके दूसरी तरफ ताज़ी हरी घास खाने लगा।

 

बकरी की कहानी:-

Goat story in hindi

 

दूसरी बकरियों ने पतला बकरी को ताज़ी हरी घास खाते हुए देखा और उन्हें जलन होने लगा।

क्योंकि वे भी ताजी हरी घास खाने चाहते थे।

इसलिए मोटा बकरी पुल के पास गए और पुल को पार करने लगे।

जैसे ही मोटा बकरी के पैरों से आवाज हुई। फिर से मगरमच्छ पुल के नीचे से निकल गया।
और बोला मेरे पुल से जाने वाली यात्री कौन है?

मोटा बकरी डर गया,और धीमी आवाज़ में कहा,

मगरमच्छ भाई केवल मैं हूं। मैं अपने भाई पतला बकरी के पास जा रहा हूं,

ताकि मैं भी मीठी घास खा सकू। ‘

मगरमच्छ बोला अरे नहीं तुम नहीं जा सकते हो! मैं तुम्हें नाश्ते, दोपहर के

भोजन और चाय के लिए खाने जा रहा हूँ! ‘

’अरे नहीं, मिस्टर मगरमच्छ, आप मुझे खाना नहीं चाहेंगे। मैं आपको पेट भरने

के लिए बहुत बड़ा नहीं हूं। मेरे बड़े भाई के आने तक प्रतीक्षा करें – वह मुझसे ज्यादा स्वादिष्ट है। ‘

मगरमच्छ बहुत ही लालची था,वे मोठे और बड़े बकरी का इंतजार करने लगा।

और मोटा बकरी पतला बकरी के साथ मीठी हरी घास खाने लगे।

 

Goat story in hindi:-

Goat story in hindi

 

बड़े साहसी बरे बकरी, वो भी पुल पार करके अपने भाइयों के पास जाकर

हरी घास खाने की कल्पना कर रहे थे।

बहुत साहस के साथ, उसने अपने खुरों को पुल पर रख दिया।

तभी अचानक मगरमच्छ पुल के नीचे से निकल गया।

? मेरे पुल पर फँसने वाली यात्रा कौन है? मगरमच्छ बोला।
बड़ा बकरी उछल पड़ा।और बोला ‘यह मैं हूँ। तुम्हें क्या लगता है कि तुम हो?’

मगरमच्छ:-मैं मगरमच्छ हूं और मैं आपको नाश्ते, दोपहर और चाय के

लिए खाना खाने जा रहा हूं! ‘

बरे बकरी अरे नहीं, तुम नहीं हो! ‘

मगरमच्छ अरे हाँ मैं हूँ – तुम देखोगे! ‘

तब मगरमच्छ बरे और विशाल बकरी के आगे जमीन पर आ गया। विशाल बकरी

अपने सिर को झुका लिया और मगरमच्छ पर बहादुरी से वार किया।और उसे

अपने सींगों में पकड़ लिया और उसे नीचे की धारा में फेंक दिया।

मगरमच्छ पानी के नीचे गायब हो गया, फिर कभी नहीं देखा गया।

तब से, कोई भी पुल को पार कर सकता है और तीनो बकरियों के साथ हरी

घास का आनंद ले सकता है।

Goat story in hindi

 

कहानी का नैतिक:-

दोस्तो आपके सामने कोई भी मुसीबत आये उसे देखकर घबराए नही बल्कि उसका

सामना करे।उसका हल जरूर निकलेगा।

तो दोस्तों आपको ये Goat story in hindi कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताएं।

और अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे धन्यवाद।

Tota ki Kahani | Story of two parrot in hindi-Hindi Story

Question Covered in This Post –

Goat story in hindi
Samajdar Bakri story in Hindi
Bakri ki chaturai story in Hindi
बकरी की कहानी
Hindi story for kids
Moral stories in Hindi

One thought on “Goat story in hindi | Samajdar Bakri story in Hindi-Hindi Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *